अजमेर से रिजु झुनझुनवाला हारे तो छिन जाएगा रघु शर्मा का मंत्री पद?

अजमेर। राजस्थान में उन्नतीस अप्रेल को होने वाले अजमेर संसदीय चुनाव में चिकित्सा मंत्री रुघु शर्मा की राजनीतिक प्रतिष्ठा दांव पर है। बाहरी का ठप्पा लगने के बावजूद मुकाबले में डटे कांग्रेस प्रत्याशी रिजू झुनझुनवाला के सामने बीजेपी के प्रत्याशी भागीरथ चौधरी हैं।

अजमेर लोकसभा उपचुनाव जीतने के बाद शर्मा ने गत विधानसभा चुनाव में जिले के केकड़ी विधानसभा चुनाव लड़ा और राज्य के चिकित्सा मंत्री बने। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी टिकटों के आवंटन के साथ ही अजमेर ही नहीं पूरे प्रदेश के आला नेताओं को कांग्रेस उम्मीदवार को जिताने के निर्देश दे चुके हैं और कह चुके हैं कि कांग्रेस उम्मीदवार के हारने पर संबंधित मंत्री को पद पद छोड़ना होगा।

उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट भी अजमेर से लोकसभा चुनाव जीत चुके है और इस बार अजमेर में टिकट आवंटन कराने में रिज्जु झुनझुनवाला के नाम को प्रस्तावित करने वालों में शामिल रहे हैं।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत झुनझुनवाला के नामांकन के दिन नौ अप्रेल को अजमेर में नामांकन सभा में कहा था कि झुनझुनवाला सचिन पायलट और डॉ. रघु शर्मा के उम्मीदवार है लेकिन उन्हें मेरा भी समर्थन है।

भाजपा ने अजमेर से पूर्व विधायक भागीरथ चौधरी को चुनाव मैदान में उतारा है वहीं कांग्रेस ने वैश्य समुदाय से झुनझुनवाला को उतारकर वैश्यों की सहानुभूति बटोरने की कोशिश की है, लेकिन अजमेर में वैश्य समाज का एक गुट भाजपा के साथ तथा दूसरा कांग्रेस के साथ बताया जा रहा है।

झुनझुनवाला ने डेयरी सदर रामचंद्र चौधरी तथा किशनगढ़ के पूर्व विधायक नाथूराम सिनोदिया को पार्टी के आला नेताओं के जरिए अपने पक्ष में कर लिया है। झुनझुनवाला संगठन के अलग अलग गुटों से तथा समाज के विभिन्न वर्गों के साथ बैठक कर माहौल को अपने पक्ष में बनाने में जुटे हैं। इस बार अजमेर में दोनों प्रमुख राजनीतिक दल कांग्रेस एवं भाजपा के नए उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं और मुकाबला रोचक होने के आसार है।

गहलोत मंगलवार को अपराह्न तीन बजे तीर्थराज पुष्कर पहुंच कर कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में आयोजित जनसभा को संबोधित करेंगे। उनके साथ पायलट, पार्टी के वरिष्ठ नेता अविनाश पांडे, विवेक बंसल एवं रघु शर्मा भी होंगे। पूर्व शिक्षा मंत्री नसीम अख्तर इंसाफ और पुष्कर ब्लॉक कांग्रेस की अध्यक्षा मंजू कूडिया ने बताया कि सभी नेता पुष्कर पहुंचकर ब्रह्मा मंदिर के पीछे गुर्जर भवन में आमसभा को संबोधित करेंगे।