पूजा ढांडा ने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में रचा इतिहास

Wrestling World Championships : Pooja Dhanda wins bronze medal in women’s freestyle 57kg weight class

बुडापेस्ट। भारत की पूजा ढांडा ने सीनियर विश्व कुश्ती प्रतियोगिता में गुरूवार को नया इतिहास रच दिया। पूजा ने 57 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीता और इसके साथ ही वह विश्व कुश्ती प्रतियोगिता में पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बन गई।

57 किग्रा में पूजा ने रेपचेज में अज़रबेजान की एलोना कोलेसनिक को 8-3 से हराकर कांस्य पदक मुकाबले में जगह बना ली और फिर नाॅर्वे की ग्रेस जैकब की चुनौती को 10-7 से तोड़कर एक नया इतिहास बना दिया।

भारत का विश्व कुश्ती प्रतियोगिता के इतिहास में यह नौंवां पदक और किसी भारतीय महिला पहलवान द्वारा जीता गया पहला पदक है। इससे पहले तक सभी आठ पदक पुरुष पहलवानों ने जीते थे।

ओलम्पिक पदक विजेता पहलवान साक्षी मालिक की 62 किग्रा मुकाबले में रेपचेज़ में चुनौती टूट गयी थी जबकि रितु फोगाट (50) और पूजा ढांडा (57) ने अपने रेपचेज मुकाबले जीतकर कांस्य पदक मुकाबले में जगह बनाई थी।

साक्षी, रितु और पूजा ने बुधवार को रेपचेज में पहुंच कर पदक की उम्मीदें बनाई थीं लेकिन इन तीन पहलवानों में से सबसे पहले साक्षी रेपचेज में हारकर बाहर हो गई थीं। भारत की एक अन्य पहलवान रितु मलिक कल कांस्य पदक मुकाबले में जापान की अयाना गेम्पेइ से 3-7 से हार गई थीं।

ओलंपिक में कांस्य पदक जीतकर इतिहास बनाने वाली साक्षी ने रेपचेज़ में हंगरी की मरियाना सास्तिन से कड़ा मुकाबला किया लेकिन उन्हें 2-3 से हार का सामना करना पड़ा। रितु फोगाट ने रेपचेज़ में रोमानिया की एमिलिया एलीना को हराकर कांस्य पदक मुकाबले में जगह बना ली।

रितु का कांस्य पदक के लिए यूक्रेन की ओकसाना लिवाच से मुकाबला था लेकिन भारतीय पहलवान को 5-10 से हार का सामना करना पड़ा और उनकी भी कांस्य पदक की उम्मीदें टूट गई।

रितु फोगाट की हार के बाद भारत की सारी उम्मीदें पूजा पर टिक गई थीं और पूजा ने करोड़ों देशवासियों को निराश नहीं किया। पूजा ने संघर्षपूर्ण मुकाबले में नाॅर्वे की ग्रेस जैकब को 10-7 से हराकर भारतीय खेमे में ख़ुशी की लहर दौड़ा दी। भारत का इस चैंपियनशिप में यह दूसरा पदक है। इससे पहले बजरंग पुनिया ने पुरुष फ्रीस्टाइल के 65 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीता था।

अन्य भारतीय महिला पहलवानों में नवजोत कौर (68) रेपचेज़ में हार गयीं। पिंकी (53), सीमा (55), सरिता (59), रजनी (72) और किरण (76) पदक होड़ में नहीं जा सकी हैं। भारत की 10 महिला पहलवानों में से पूजा ने पदक जीता।

भारत ने अब तक विश्व चैंपियनशिप में एक स्वर्ण, तीन रजत और पांच कांस्य पदक जीत लिए हैं। पिछले पदकधारियों में उदयचंद 1961, विशम्भर सिंह 1967, रमेश कुमार 2009, सुशील कुमार (स्वर्ण) 2010, बजरंग 2013 और 2018, अमित दहिया 2013 तथा नरसिंह यादव 2015 शामिल हैं।

इस बीच ग्रीको रोमन मुकाबलों में उतरे चारों भारतीय पहलवानों को हारकर बाहर हो जाना पड़ा। ग्रीको रोमन वर्ग में विजय (55), गौरव शर्मा (63), कुलदीप मलिक (72) और हरप्रीत सिंह (82) शुरूआती दौर में हार कर बाहर हो गए।

विजय को चीन के लिगुओ काओ ने 9-1 से, गौरव को पोलैंड के माइकल जैसेक ने 7-3 से, कुलदीप को जापान के तोमोहिरो इनोयू ने 9-0 से और हरप्रीत को मोरक्को के जैद ओगरेम ने 14-5 से हराया। भारतीय पहलवानों को हराने वाले पहलवान अगले राउंड में हार गए जिससे भारतीय पहलवानों की रेपचेज में जाने की उम्मीदें टूट गई।