वर्चस्व की लड़ाई में मजदूर संघ के कार्यकर्ता झगड़े

IMG-20140922-WA0018
पिण्डवाडा में घायल मजदूर

पिण्डवाड़ा (सिरोही)। जिले की दो बड़ी सीमेंट ईकाइयों में संचालित दो प्रमुख  मजदूर संगठनों की वर्चस्व की जंग सोमवार को हाथापाई में बदल गई। यह स्थिति किसी गली या सडक़ पर नहीं बल्कि उपखण्ड के आला प्रशासनिक अधिकारी कार्यालय में हुई , वर्चस्व की इस लड़ाई में इस बार खून के छीटें भी उड़े, इसमें एक मजदूर चोटिल हुआ।…
पिण्डवाड़ा थानाधिकारी पारसाराम के  अनुसार सोमवार को पिण्डवाड़ा उपखण्ड अधिकारी कार्यालय में बनास स्थित जेके लक्ष्मी सीमेंंट इकाई के नए प्लांट के एक्सटेंशन के लिए जनसुनवाई प्रस्तावित थी। जनसुनवाई  से पहले ही भारतीय मजदूरी संघ के एक कार्यकर्ता ओमप्रकाश चारण और इंटक के कार्यकर्ताँओं के बीच में बहस हो गई। इसमें ओमप्रकाश को कुछ कार्यकर्ताओं ने पीट दिया। उसके चोटें आई। पुलिस ने इंदरसिंह, दशरथसिंह व दिनेशसिंह को शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। ओमप्रकाश ने रिपोर्ट दर्ज करवाई जिसकी जांच शुरू कर दी है।

सत्ता बदलते ही बदल रहे तेवर
दरअसल यह सारा खेल भरतीय मजदूर संगठन  तथा इंटक के जिले की बनास स्थित जेके लक्ष्मी सीमेंट तथा बिनानीग्राम स्थित बिनानी सीमेंट पर अपना -अपना वर्चस्व कायम करने का है । बात बहोत ज्यादा पुरानी नहीं है , करीब दो साल पहले ही इसका आगाज  उस समय हुआ था जब कांग्रेस के शासन में बिनानी सीमेंट इकाई में इंटक नेता चंदनसिंह देवड़ा की अगुआई  में इंटक ने वहां पर अपना पांव जमा लिया था । जब सत्ता बदली तो भारतीय मजदूर संघ ने जेके लक्ष्मी सीमेंट में अपनी यूनीयन की शुरूआत करने का आगाज किया। भारतीय मजदूर संघ को जेके लक्ष्मी सीमेंट फैक्ट्री के मजदूरों के बीच स्थापित करने की जिम्मेदारी उठाई नारायणसिंह परिहार ने।

परिहार और इंटक नेता चंदनसिंह से विवाद की परिणिति में परिहार को  जेके लक्ष्मी सीमेंट फैक्ट्री में अपने काम से हाथ धोना पड़ा था। इसके बाद उन्होंने पिण्डवाड़ा थाने में जेके लक्ष्मी के कुछ पदाधिकारी के साथ इंटक नेता चंदनसिंह देवड़ा के खिलाफ एक रिपोर्ट भी दर्ज करवाई थी ।

हाल ही में कई बार भारतीय मजदूर संघ ने जेके लक्ष्मी सीमेंट में अपनी यूनीयन की शुरूआत करने के लिए जेके लक्ष्मी सीमेंट के गेट पर अपना शिविर भी लगाया और अपने समर्थकों के साथ अपनी ताकत के प्रदर्शन का भी प्रयास किया। अब भारतीय मजदूर संगठन बनास स्थित सीमेंट इकाई में अपना पांव जमाने की कोशिश कर रहा है, इसी को देखते हुए इसके कार्यकर्ता जनसुनवाई में भी पहुंचे जहां यह घटना हो गई।