कश्मीर घाटी में 4 आतंकी हमले, 11 जवान शहीद

21 killed in 4 terror attacks in jammu kashmir
21 killed in 4 terror attacks in jammu kashmir

श्रीनगर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कश्मीर यात्रा से महज तीन दिन पहले आतंकवादियों ने घाटी में चार स्थानों पर लगातार हमले किए, जिनमें सेना के एक लेफ्टिनेंट कर्नल सहित सेना के 8 जवान तथा तीन पुलिसकर्मी शहीद हो गए तथा छह आतंकवादी मारे गए।

पहला आतंकवादी हमला सीमा से लगभग बीस किलोमीटर दूर बारामुला जिले के उरी सेक्टर में एक सैन्य शिविर पर हुआ, जिसमें एक लेफ्टिनेंट कर्नल, एक जेसीओ, 6 जवान और तीन पुलिसकर्मियों समेत 11 सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए। इस हमले के दौरान शिविर के अंदर एक शस्त्र भंडार में आग लगने की भी खबर है।

इस बीच रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर ने कहा कि चुनाव के कारण आतंकवादी ऎसे हमले कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सेना ने जिस तरह इन आतंकवादी हमलों को नाकाम किया है, वैसे भी करते रहेंगे। दूसरा आतंकवादी हमला सौरा में हुआ, जहां सेना से मुठभेड़ में तीन आतंवादी मारे गए।
ठीक इसके बाद आतंकवादियों ने शोपियां में तीसरा हमला किया। यहां उन्होंने पुलिस थाने पर हथगोले फेंके। इन दोनों हमलों में किसी सुरक्षाकर्मी या आम नागरिक के हताहत होने की खबर नहीं है।

आतंकवादियों ने चौथा हमला भी एक अन्य पुलिस थाने पर किया जिसमें उनके द्वारा फेंके गए हथगोलों से सात लोगों के घायल होने की सूचना है। आतंकवादी हमले के बाद बारामुला-मुजफ्फराबाद सड़क मार्ग को आम यातायात के लिए बंद कर दिया गया है।

सेना ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर ली और हमलावर आतंकवादियों के अन्य साथियों की धरपकड़ के लिए सघन तलाशी अभियान छेड़ दिया है। सेना और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं।

बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे आतंकवादी हमले

केद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि उडी और शोपियां जैसे आतंकवादी हमले भारत कतई बर्दाश्त नहीं करेगा। सिंह ने राजौरी जिले के थाना मंंडी में चुनावी रैली को संबोधित करने के बाद कहा कि हम इस तरह की गतिविधियां बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेंगे। भारत आतंकवादियों को माकूल जवाब दे रहा है। हमने पाकिस्तान के साथ हमेशा दोस्ती का हाथ बढ़ाया है लेकिन बदले में हमे बुलेट ही मिले हैं।

ये हमला शांति भंग करने का प्रयास

जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने उत्तरी कश्मीर के सीमावर्ती कस्बे उरी के सैनिक शिविर पर आतंकवादी हमले को शांति भंग करने का आतंकवादियों का हताशा का प्रयास बताया है और कहा है कि सेना ने इस हमले का जवाब प्रभावपूर्ण ढंग से दिया। उमर अब्दुल्ला ने ट्वीटर के माइक्रो ब्लांगिग साइट पर लिखा है कि आतंकवादी हताश होकर राज्य की शांति तथा सामान्य स्थिति को भंग करना चाहते हैं और इसके चलते ही उन्होंने यह हमला किया। उन्होंने कहा कि आतंकवादियों ने उत्तरी कश्मीर के बारमूला तथा उरी के बीच के सैनिक शिविर पर रात के ढाई बजे हमला किया।