बुआ-भतीजे ने किया माधवराव की प्रतिमा का अनावरण

शिवपुरी। सिंधिया राजघराने के प्रतिनिधि भले ही अलग-अलग पार्टियों में रहकर राजनीति कर रहे हों, मगर उनमें आपस में कोई दूरी नहीं है, यह सोमवार को मध्यप्रदेश के शिवपुरी में साबित भी हो गया।

यहां पूर्व केंद्रीय मंत्री (दिवंगत) माधवराव सिंधिया की प्रतिमा का अनावरण ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी बुआ यशोधरा राजे सिंधिया ने मिलकर किया। माधवराव सिंधिया के बेटे ज्योतिरादित्य कांग्रेस के सांसद हैं और यशोधरा राजे राज्य की भाजपा सरकार की मंत्री हैं।

यहां के दोबत्ती चौराहे पर माधवराव सिंधिया की प्रतिमा नगर पालिका परिषद ने स्थापित की है। इसके अनावरण के लिए परिषद ने आमंत्रणपत्र भी वितरित किए थे। भाजपा के तमाम नेताओं द्वारा सिंधिया राजघराने व खासकर ज्योतिरादित्य पर किए जा रहे हमलों के बीच यशोधरा राजे के कार्यक्रम में आने पर संशय बना हुआ था।

तय कार्यक्रम के मुताबिक, सिंधिया परिवार के दोनों सदस्यों ने एक साथ माधवराव सिंधिया की प्रतिमा का अनावरण किया। इस कार्यक्रम में भाजपा व कांग्रेस के कई विधायक भी साथ-साथ देखे गए।

प्रतिमा अनावरण के बाद सबसे पहले कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि मेरे पिता माधवराव सिंधिया राजनीति में जनसेवा के लिए आए थे, न कि राजनीति के लिए। मेरा भी यही उद्देश्य है कि पिता के बताए मार्ग पर चलूं।

उन्होंने आगे कहा कि इस समय राजनीति का स्तर काफी गिर गया है। जब उनकी दादी राजमाता विजया राजे और उनके पिता माधवराव सिंधिया राजनीति में थे, तब राजनीति का वातावरण इतना नहीं गिरा था, लेकिन आज माहौल बिल्कुल अलग है। नेताओं के बीच प्रतिद्वंद्विता चुनाव तक ही रहनी चाहिए। इसके बाद जब परिणाम आ जाएं तो एक साथ विकास पर फोकस रहना चाहिए।

सांसद सिंधिया ने इस मौके पर नगर पालिका के जनप्रतिनिधियों से कहा कि जिस तरह से आज उनके पिता की प्रतिमा का अनावरण हो रहा है, उसी तरह उनकी दादी राजमाता विजया राजे की प्रतिमा भी शिवपुरी में जल्द स्थापित होनी चाहिए।

कार्यक्रम में राज्य की खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने अपने दिवंगत भाई माधवराव सिंधिया की तारीफ करते हुए कहा कि मेरे भाई कांग्रेस में जरूर थे, लेकिन वह मेरे नेतृत्वकर्ता थे। माधवराव ने हमेशा मुझे आगे बढ़ाने का काम किया।

यशोधरा राजे ने कहा कि शिवपुरी-गुना ऐसा संसदीय क्षेत्र रहा, जहां से उनकी मां राजमाता विजया राजे सिंधिया और भाई माधवराव सिंधिया ने अपना पहला और आखिरी चुनाव भी यहीं से जीता।

इस मौके नगर पालिका अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह, भाजपा विधायक प्रहलाद भारती, कांग्रेस के विधायक क़े पी़ सिंह, कांग्रेस जिलाध्यक्ष व विधायक रामसिंह यादव, विधायक और पूर्व मंत्री रामनिवास रावत सहित कई जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।