जंग समाधान नहीं, हमें दोस्ती कर लेनी चाहिए : महबूबा मुफ्ती

war no option, Pak should take initiative for peace : Mehbooba Mufti

उधमपुर/जम्मू। मुख्यमंत्री ने महबूबा मुफ़्ती ने कहा कि सीमा पर जो कुछ हो रहा है। उसका सबसे ज्यादा प्रभाव इस राज्य को हो रहा है। हमें एक अच्छे पडोसी की तरह से रहना होगा क्योंकि बातचीत के दूसरा कोई हल नहीं है।

इसलिए बातचीत के लिए पकिस्तान को ही पहल करनी होगी। पहले पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई ने कदम उठाया था जिससे सीज फायर काफी कामयाब रहा था। मोदी साहब ने पकिस्तान का दौरा किया परंतु पठानकोट व उडी हमले के कारण संबध बिगड गए।

इस अवसर पर पत्रकारों से बात करते हुए राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने कहा कि कुछ समाज विरोधी ताकते 10 से 20 साल के बच्चों को पत्थरबाजी के लिए प्रयोग कर रही है। उन्हें सही रास्ते पर लाना होगा।

उन्होंने कहा कि यह ताकते नहीं चाहती कि वह पढ सकें। उन्होंने कहा कि जो युवा पढ लिख जाते हैं। वह उनके बहकाबे में नहीं आते। अब पिछले 2 दशकों से जो युवक पढ रहे है। वह बंदूक उठाने को तैयार नहीं है। इसलिए अब ये लोग गरीब लोगों के बच्चों को पत्थरबाजी के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री मुफ़्ती शुक्रवार को शेरे कश्मीर पुलिस अकादमी उधमपुर में 17 पुलिस केपीएस अधिकारी तथा 106 परासिक्यूटीव अधिकारियों के दीक्षांत समारोह में हिस्सा ले रही थीं। इस समारोह में इन अधिकारियों ने शपथ ग्रहण कर अपने को राज्य की सेवा के लिए समर्पित किया।

इस मौके पर कार्यक्रम में मुख्यअतिथि राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने कहा कि आप को अपने आयु के 25-30 साल इसी कार्य के लिए व्यतीत करने हैं और आपके सामने नई-नई चुनौतियां होंगी। आपके लिए देश सबसे पहले है। उसके उपरांत इस प्रान्त में रहने वाले लोग है। उन्होंने कहा कि लोगों से मिलजुल कर रहे और उनकी मुश्किलों को दूर करने की कोशिश करें।

इससे पहले उन्होंने पासिंग आउट परेड का निरीक्षण किया तथा परेड की सलामी ली। उन्होंने अच्छा प्रदर्शन करने वाले ट्रेनिंग लेने वालों को पुरस्कृत किया जिसमें सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली पहली महिला डॉ सुनिया बानी, बजाला बशीर, आदीर मुश्ताक, सिद्धार्थ ठाकूर, साहिल महाजन, साकीब गनी, आकाश कोहली, शरद आदि को सम्मानित किया।

इस अवसर पर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ निर्मल सिहं, उद्योग मंत्री चंद्र प्रकाश गंगा, विधायक पवन गुप्ता, पुलिस महानिदेशक के राजेन्द्रा प्रसाद, डायरेक्टर पुलिस अकादमी आईजी राजेश कुमार तथा पुलिस, सेना, वायु सेना, केन्द्रीय रिजर्व पुलिस के अधिकारी मौजूद थे।