वाघा बार्डर विस्फोट : 3 आतंकवादी संगठनों ने ली जिम्मेदारी

2014 wagah border suicide attack
2014 wagah border suicide attack

लाहौर। पाकिस्तान में वाघा बार्डर के समीप सोमवार को हुए आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी तीन तीन आतकंवादी संगठनों ने ली है जिससे यहां की खुफिया एजेंसी हतप्रभ हो गई है। पाकिस्तान में सक्रिय कुख्यात आतंकवादी संगठन तहरीक एतालिबान से हाल में अलग हुए दो धड़ों जुनदुल्लाह और जमात उल अहरार तथा महार महसूद संगठन ने ली है।…

टीटीपी के पूर्व प्रवक्ता ने जुनदुल्लाह के हमले के दावे को कोरी बकवास करार देते हुए कहा है कि इसके लिए उसका संगठन जमात उल अहरार संगठन जिम्मेदार है। जमात उल अहरार का मतलब है आजाद लोगों का संगठन। प्रवक्ता ने कहा है कि उसके संगठन ने यह हमला दोनों देशों की सरकारों को दिया गया खुला संदेश है।

प्रवक्ता ने कहा है कि कई अन्य संगठनों ने भी हमले की जिम्मेदारी ली है लेकिन यह गलत है। उसने कहा कि हमला उसके संगठन ने किया है और जल्द ही वह इस दावे की पुष्टि के लिए वीडियो जारी करेगा जिसमें इस संगठन के सदस्य हाफिज हनीफुल्लाह को आत्मघाती हमले को अ ंजाम देते देखा जा सकता है।

उधर, जुनदुल्लाह ने भी हमले की जिम्मेदारी ली है। जुनदुल्लाह का अर्थ है..अल्लाह के सैनिक। यह संगठन शिया समुदाय का विरोधी है इसने पेशावर के चर्च पर हमला और गत साल जून में गिलगित बालिस्तान में पर्यटकों पर हमला आदि जैसे आतंक वादी वारदातों को अंजाम दिया है। जुनदुल्लाह के प्रवक्ता ने कहा कि उसके संगठन ने यह हमला पाकिस्तानी सेना द्वारा कबाइली इलाके में चलाए जा रहे आतंकवाद विरोधी अभियान जर्ब ए अज्ब के विरोध में किया है।

उधर, इस आत्मघाती हमले के बाद से पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई है। देशभक्ति के जज्बे से लबालब होकर बार्डर पर बिट्रिंग रिट्रिट सेरेमनी को देखने आए लोगों पर हुए इस हमले के दौरान चार पाकिस्तानी रेंजर भी शहीद हो गए। इस घटना में अब तक 61 लोगों के मारे जाने की खबर है जिसमें से नौ लोग एक ही परिवार के सदस्य थे।

फैसलाबाद जिले के सुमंदरी के रहने वाले जीबी मोहम्म्द जफर अपने परिवार के 18 लोगाें के साथ वाघा बार्डर गए थे लेकिन इस हादसे में उन्होंने परिवार क ी चार महिलाओं और पांच बच्चों को गंवा दिया। हमले में शहीद हुए पाक रेंजर्स के शव उनके गृह जिले भेज दिए गए हैं। पाक रेंजर इस्पेक्टर रिजवान, नायक बशीर अहमद, लांस नायक मोहम्मद सुल्तान के शवों पर शोहादा ग्राउंड रेंजर्स हेडक्वार्टर में फातिहा पढ़ा गया।

प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने हमले की कड़ी निंदा करते हुए प्रशासन को घायलों को समुचित इलाज मुहैया कराने का आदेश दिया है। रक्षा मंत्री ख्वाजा मुहम्मद आसिफ ने कहा है कि इस तरह के आतंकवादी हमले से उनके खिलाफ जारी अभियान पर कोई असर नहीं पडेगा। सरकार उनके सफाये के लिए प्रतिबद्ध है।

पाक सरकार ने मारे गए लोगों के परिजनों के लिए पांच पांच लाख रूपए और घायलों को 75-75 हजार रूपए देने की घोषणा की है। लाहौर के सभी अस्पतालों में इमरजेंसी घोषित की गई है। मेडिकल सूत्रों के मुताबिक मृतकों की संख्या में अभी और बढ़ोतरी होने की आशंका है। कुछ घायल लोगों की हालत बेहद गंभीर है।

खुफिया सूत्रों के मुताबिक उन्हें शनिवार रात के ही वाघा बार्डर पर संभावित हमले की जानकारी मिल गई थी। इसके मद्देनजर बार्डर पर सुरक्षा व्यवस्था ज्यादा चौकस की गई थी और दो नई जांच चौकियां स्थापित की गई थी। वाघा बार्डर के प्रशासन को भी इसकी जानकारी दी गई थी। मीडिया के अनुसार आत्मघाती हमलावर ने विस्फोट के लिए लगभग 15 किलोग्राम विस्फोटक इस्तेमाल किया था।

पुलिस प्रवक्ता नबीला गजनफर ने कहा कि घायल करीब 200 लोगों में से कई की हालत गंभीर है जिससे मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। उन्हो ंने कहा कि पूरे पाकिस्तान में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। सूत्रोंं के मुताबिक विस्फोट की घटना के बाद लाहौर के समीप वाघा वार्डर के आसपास के इलाकों में चलाए गए सघन तलाशी अभियान के दौरान सुरक्षा बलों ने भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद किया है।

पाकिस्तानी रेंजर्स के सूत्रों ने स्थानीय मीडिया को बताया कि क्षेत्र में एक संदिग्ध व्यक्ति की मौजूदगी की खुफिया सूचना के आधार पर वाघा वार्डर से लगे इलाकों में तलाशी अभियान चलाया गया। अभियान के दौरान भारी मात्रा में विस्फोटक और आत्मघात के लिए प्रयुक्त किए जाने वाले वस्त्रों के आवरण बरामद किए गए।

पंजाब प्रांत के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई गई। बैठक में शरीफ ने घटना के संदर्भ में विस्तृत विचार विमर्श किया। उन्होंने घटना की जांच के लिए एक संयुक्त दल का गठन करने के निर्देश दिए। उल्लेखनीय है कि वाघा वार्डर के समीप क ल विस्फोट की घटना में कम से कम 61 लोग मारे गए और 200 से अधिक लोग घायल हुए हैं।

इस बीच अमरीका ने वाघा वार्डर हमले की कड़ी निंदा की और घटना की जांच के लिए अपनी सहायता उपलब्ध कराने का प्रस्ताव किया है। पाकि स्तान में अमरीका के राजदूत रिचर्ड ओल्सन ने इस्लामाबाद में जारी एक बयान में कहा कि वह अमरीका के लोगों की तरफ से घटना में मारे गए लोगों के प्रति शोक व्यक्त करते हैं। विश्व समुदाय ने इस घटना की कड़ी निंदा करते हुए आतंकवादियों के बढ़ते खतरे पर चिंता जताई है।

भारत ने इस कायरतापूर्ण घटना की कड़ी निंदा करते हुए बाघा सीमा से लगे क्षेत्रों में हाई अलर्ट घोषित कर दिया है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विस्फोट की कड़ी निंदा करते हुए कहा है कि वह इस तरह की कायरतापूर्ण आतकंवादी गतिविधि की घोर निंदा करते हैं।