कटारिया को गृह, सराफ से शिक्षा व गजेन्द्र से ऊर्जा छीनी

CM Vasundhara raje retains important portfolios, kataria gets home ministry
CM Vasundhara raje retains important portfolios, kataria gets home ministry

जयपुर। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मंत्रिमंडल में शामिल नए मंत्रियों को मंगलवार को विभाग आवंटित कर दिए। पुराने अधिकतर मंत्रियों के विभागों में भी बदलाव किया।…

मालूम हो कि सोमवार को चार कैबिनेट, छह राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार और पांच राज्य मंत्रियों ने शपथ ली थी। अब वसुंधरा राजे मंत्रिमंडल में मंत्रियों की संख्या 26 हो गई है इनमें सांवरलाल जाट भी शामिल हैं। हालांकि अजमेर से सांसद चुने जाने के बाद जाट विधायक पद छोड़ चुके हैं। अभी विभागों का बंटवारा नहीं किया गया है।

राजे ने मंत्रियों के विभागों में व्यापक फेरबदल कर गुलाब चन्द कटारिया को गृह विभाग सौंपने के साथ ही नए मंत्रियों को विभागों का वितरण करते हुए कालीचरण सराफ से शिक्षा और गजेन्द्र सिंह से ऊर्जा विभाग छीन लिया। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार कटारिया को गृह और न्यायविभाग, होम गार्ड एवं नागरिक सुरक्षा, जेल तथा आपदा प्रबंधन विभाग का जिम्मा दिया गया है।

नए मंत्री सुरेन्द्र गोयल को पंचायत राज एवं ग्रामीण विकास विभाग दिया गया है। राजेन्द्र सिंह राठौड़ को उनके मौजूदा विभाग चिकित्सा एवं स्वास्थ्य एवं संसदीय मामलात विभागों को बरकरार रखते हुए विधि, मंत्रिमण्डल सचिवालय, निर्वाüचन एवं वक्फ विभाग का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है।

कालीचरण सराफ से प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा विभाग छीनकर वासुदेव देवनानी को दिया गया है। सराफ के पास तकनीकी शिक्षा, उच्च शिक्षा एवं संस्कृत विभाग होंगे। प्रभु लाल सैनी का कृषि, पशुपालन एवं मत्स्य और गौपालन विभाग बरकरार रखा गया है।

गजेन्द्र सिंह से ऊर्जा विभाग छीन कर पहली बार मंत्री बने राज्य मंत्री पुष्पेन्द्र सिंह को दिया गया है। गजेन्द्र को उद्योग, राजकीय उपक्रम, युवा एवं खेल मामले विभाग दिए गए हैं।

युनूस खान का लोक निर्माण एवं परिवहन विभाग बरकरार रखा गया है। राजपाल सिंह शेखावत को नगरीय विकास विभाग, डॉ. रामप्रताप को जल संसाधन, इंदिरा गांधी, कृषि सिंचित क्षेत्र एवं जल उपयोगिता विभाग का जिम्मा दिया गया है।

पहली बार मंत्री बनी किरण माहेश्वरी को जल संसाधन, भूजल विभाग देने के साथ अरूण चतुर्वेदी को कैबिनेट मंत्री पद पर पदोन्नत करते हुए सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता, अल्पसंख्यक मामलात, मोटरगैराज, सामान्य प्रशासन, सम्पदा एवं मुद्रण तथा लेखा विभाग सौंपा गया है।

राज्यमंत्री अजय सिंह किलक का सहकारिता विभाग बरकरार रखते हुए नए राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अमरा राम को राजस्व, उपनिवेशन, सैनिक कल्याण, पुनर्वास, जयपुर शहर पुनर्वास और पुन: बंदोबस्त एवं देवस्थान विभाग दिया गया है।

कृष्णेन्द्र कौर को कला एवं संस्कृति और पुरातत्व विभाग, पर्यटन एवं नागरिक उड्डयन विभाग दिया गया है। नए राज्यमंत्री राजकुमार रिणवां को खान, वन एवं पर्यावरण, अनिता भदेल को महिला एवं बाल विकास विभाग।

सुरेन्द्र पाल सिंह को श्रम नियोजन एवं कारखाना, बायलर्स विभाग दिया गया है। राज्यमंत्रियों में बाबूलाल वर्मा को परिवहन, जीतमल खांट क ोसामान्य प्रशासन, सम्पदा, मोटरगैराज, मुद्रण एवं लेखा विभाग का जिम्मा दिया गया है।

इसी तरह नए मंत्री अर्जुन लाल को विधि एवं विधिक कार्य, संसदीय मामलात, मंत्रिमण्डलीय सचिवालय एवं निर्वाचन विभाग सौंपा गया है। ओटा राम देवासी को गौपालन एवं देवस्थान विभाग दिया गया है।
चतुर्वेदी और भडाना का प्रमोशन

राज्यमंत्री अरूण चतुर्वेदी और हेम सिंह भडाना को मंगलवार को राज्य मंत्री से पदोन्नत कर कैबिनेट मंत्री बनाया गया। राजभवन में शाम को राज् यपाल कल्याण सिंह ने चतुर्वेदी और भडाना को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। सूत्रों ने बताया कि सोमवार को मंत्रिमंडल विस्तार के बाद जातिगत संतुलन के मद्देनजर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने दोनों को पदोन्नत करने का फैसला लिया।

किसको क्या जिम्मेदारी

पिछली सरकार में गृह विभाग संभाल चुके काबिना मंत्री गुलाबचंद कटारिया को दुबारा इस विभाग की जिम्मेदारी दी गई है। काबिना मंत्री कालीचरण सराफ से प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा विभाग छीनकर राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी को दिए गए। गजेन्द्र सिंह खींवसर से ऊर्जा विभाग लेकर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपने पास रख लिया।

खींवसर को उद्योग विभाग व दिल्ली मुम्बई इण्डस्ट्रियल कोरिडोर की बड़ी जिम्मेदारी दी गई है। सार्वजनिक निर्माण मंत्री युनूस खान को परिवहन विभाग और देकर उनका कद बढ़ाया गया है। पिछली वसुंधरा सरकार में भी खान के पास परिवहन विभाग था।

चिकित्सा मंत्री राजेन्द्र सिंह राठौड़, कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी व सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री अरूण चतुर्वेदी को और विभाग दिए गए हैं। विभागों के बदलाव से काबिना मंत्री नंदलाल मीणा, राज्य मंत्री से काबिना मंत्री बनाए गए हेमसिंह भड़ाना राज्य मंत्री अजय सिंह और अछूते रहे।

केबिनेट मंत्री

सुरेन्द्र गोयल-पंचायतीराज विभाग व ग्रामीण विकास विभाग

राजपालसिंह शेखावत-नगरीय विकास विभाग

डॉ.रामप्रताप-जल संसाधन विभाग, इंदिरा गांधी नहर परियोजना, कृषि सिंचित क्षेत्र विकास, जल उपयोगिता विभाग

किरण माहेश्वरी-जलदाय विभाग व भू-जल विभाग

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)

अमराराम-राजस्व विभाग, उप निवेशन विभाग, सैनिक कल्याण विभाग, पुनर्वास विभाग, जयपुर शहर पुनर्वास और पुन:बंदोबस्त विभाग, देवस्थान विभाग

कृष्णेन्द्र कौर-कला संस्कृति व पुरातत्व विभाग, पर्यटन विभाग, नागरिक उड्डयन विभाग

वासुदेव देवनानी-शिक्षा विभाग (प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा), भाष्ाा विभाग

राजकुमार रिणवा-खान विभाग, वन एवं पर्यावरण विभाग

अनिता भदेल-महिला व बाल विकास विभाग

सुरेन्द्रपाल सिंह-श्रम नियोजन, कारखाना बॉयलर्स

राज्य मंत्री

पुष्पेन्द्र सिंह-ऊर्जा विभाग

बाबूलाल वर्मा-परिवहन विभाग

जीतमल खांट-सामान्य प्रशासन, मोटर गैराज, मुद्रण-लेखन

अर्जुनलाल गर्ग-विधि एवं विधिक कार्य विभाग, विधि परामर्शी कार्यालय, संसदीय मामलात विभाग, मंत्रिमण्डल सचिवालय, निर्वाचन विभाग

ओटाराम देवासी-गोपालन विभाग, देवस्थान विभाग