दिल्ली रेप केस : उबेर कैब पर रोक, रिमांड पर रेप आरोपी ड्राइवर

cab
नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली की एक कोर्ट ने उबेर कैब रेप केस के मुख्य आरोपी शिव कुमार यादव को तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया तथा प्रशासन ने भी सख्त कदम उठाते हुए उबेर कैब सर्विसेज पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है।

यादव को सोमवार को मैट्रोपालिटन मजिस्ट्रेट अंबिका सिंह की अदालत में पेश किया गया जिन्होंने उसे 11 दिसंबर तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया। यादव ने यह कहते हुए शिनाख्त परेड से इंकार कर दिया कि लड़की के पास उसका फोटो है।

पुलिस ने अदालत को बताया कि आरोपी द्वारा इस्तेमाल मोबाइल फोन को बरामद करने के लिए उससे अभी पूछताछ करनी है। इसलिए उसे पुलिस हिरासत में दिया जाए। उधर, इस मामले की गूंज संसद से लेकर सड़क तक सुनाई दी। लोकसभा में इस मुद्दे को राष्ट्रीय जनता दल और आम आदमी पार्टी के सांसदों ने उठाया तथा कांग्रेस तथा आप पार्टी के कार्यकर्ताओं ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आवास तथा राजनिवास के बाह धरना प्रदर्शन किया।

गृहमंत्री ने लोकसभा में सदस्यों की भावनाओं से सहमति जताते हुए कहा कि छह दिसम्बर को दिल्ली में टैक्सी चालक द्वारा एक महिला के साथ बलात्कार की घटना अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि यह बहुत ही गंभीर घटना है और सरकार इस कुकृत्य की घोर भत्र्सना करती है। उन्हाेंने सदन को आश्वस्त किया अपराधी को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

दिल्ली पुलिस ने यादव को रविवार को उत्तर प्रदेश के मथुरा से गिरफ्तार कर सोमवार को तीस हजारी अदालत में पेश किया जहां उसे तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया। दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस ने यह खुलासा भी किया है आरोपी ड्राइवर पहले भी बलात्कार के एक मामले में शमिल रहा है।

पुलिस के अनुसार पूछताछ में यादव ने बताया कि इससे पहले भी 2011 में बलात्कार के एक मामले में उसे गिरफ्तार किया गया था और सात माह तिहाड जेल में रहने के बाद छूट गया था। 32 वर्षीय यादव का विवाह उसके भाई की विधवा पत्नी के साथ हुआ है। उसके दो बेटियां और एक सौतेला पुत्र है। उसकी पत्नी अपनी बेटियों के साथ मथुरा में रहती है जबकि यादव दिल्ली में अपने पुत्र के साथ रहता था।

वह पिछले कुछ वर्षो से दिल्ली में ड्राइवर की नौकरी करता है। यादव छह दिसम्व्र की रात को एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करने वाली 26 वर्षीय युवती के साथ बलात्कार के बाद फरार हो गया था। उस पर पुलिस ने एक लाख रूपए का ईनाम घोषित किया था। इस घटना के विरोध में आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के अशोक रोड स्थित सरकारी निवास पर प्रदर्शन किया।

आप के कार्यकर्ताओं ने घटना के विरोध में राजनिवास पर भी प्रर्दशन किया। राष्ट्रीय भारतीय छात्र संघ के कार्यकर्ताओं ने भी गृहमंत्री के आवास के बाहर घटना के विरोध में धरना प्रदर्शन किया। दिल्ली सरकार ने उबेर कैब सर्विसेज की एक टैक्सी में महिला के साथ हुए रेप पर त्वरित क ार्रवाई करते हुए इस कंपनी को तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित कर दिया है।

दिल्ली परिवहन विभाग की तरफ दी गई जानकारी के अनुसार उबेरटैक्सी सेवा को दिल्ली में प्रतिबंधित कर दिया गया है। इसके बाद कंपनी दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में अपनी सेवा जारी नहीं रख पाएगी। प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मामले में पुलिस ने उबेर कंपनी के अधिकारियों से पूछताछ की और नियम तोड़ने का दोषी पाया।

बताया जाता है कि कंपनी ने आरोपी ड्राइवर का वेरीफिकेशन नहीं कराया था। इस घटना के बाद कंपनी के गुड़गांव स्थित अपना कार्यालय बंद कर देने की भी खबर है। गृहमंत्री ने लोकसभा में दिए वक्तव्य में कहा कि महिला ने उबेर नाम से कार सेवा चलाने वाली कंपनी से एक टैक्सी आनलाइन मंगाई। महिला ने यह टैक्सी रात करीब साढे दस बजे वसंत विहार से इंदर लोक जाने के लिए किराये पर ली। मामला उत्तर जिला के सराय रोहिल्ला पुलिस थाने का है। पीडित महिला गुडगांव में काम करती है। कार्यालय से छुट्टी के बाद महिला अपने कुछ मित्रों के साथ वसंत विहार आई थी।