प्रेगनेंसी टेस्ट विवाद : डॉ.चन्द्रन बर्खास्त

women boxers pregnancy test
women boxers pregnancy test

नई दिल्ली। भारतीय खेल प्राधिकरण ने भारतीय महिला मुक्केबाजों का प्रेगनेंसी टेस्ट कराने से उठे विवाद में अपने चिकित्सा सलाहकार डॉ. पीएमएस चन्द्रन को अनुशासनहीनता और गलत जानकारी देने के आरोप में तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया है।…



साई ने शनिवार को जारी एक बयान में बताया कि जूनियर सहित महिला मुक्केबाजों के प्रेगनेंसी टेस्ट होने के मीडिया में जारी बयान के लिए डॉ. चन्द्रन ही जिम्मेदार हैं। साई की उन निदेशक सुनीता भरल ने डॉ. चन्द्रन की बर्खास्तगी के संदर्भ में पत्र जारी कर दिया है।

उल्लेखनीय है कि दक्षिण कोरिया के जेजू में 13 से 25 नवम्बर तक होने वाली विश्व चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने वाली भारतीय मुक्केबाजों के प्रेगनेंसी टेस्ट को लेकर अच्छा खासा विवाद उठा जिसके बाद देश में इस खेल की नियंत्रक संस्था बाक्सिंग इंडिया ने एक बयान जारी कर स्पष्ट किया कि प्रेगनेंसी टेस्ट अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाजी महासंघ (आईबा) की अनिवार्य शर्तो में शामिल था और इसके लिए खुद मुक्कबाजों ने पत्र लिखकर आग्रह किया था।

साई ने बयान में कहा कि इस बात की पुष्टि की जाती है कि मुक्केबाजों के पे्रगनेंसी टेस्ट को लेकर मीडिया में जारी बयान के लिए डॉ. चन्द्रन ही जिम्मेदार थे। साई और बाक्सिंग इंडिया पहले ही यह स्पष्ट कर चुके हैं कि टीम की सबसे युवा खिलाड़ी 1994 की जन्मी है इसलिए किसी जूनियर का ऎसा टेस्ट होने का सवाल ही पैदा नहीं होता।

साई ने साथ ही कहा कि यह टेस्ट मुक्केबाजों के आग्रह पर कराया गया था क्योंकि आईबा की विश्व मुक्केबाजी के लिए शर्त थी कि हर मुक्केबाज को किसी मान्यता प्राप्त डॉक्टर से नान प्रेगनेंसी फार्म लाना होगा। बयान में कहा गया है कि यदि डॉ.चन्द्रन को नियमों की व्याख्या को समझने में दिक्कत थी तो उन्हें भारत में आईबा के तकनीकी प्रतिनिधि सहित संबंधित अधिक ारियों से विचार विमर्श करना चाहिए था। एक सलाहकार के रूप में उनकी यह जिम्मेदारी बनती है कि वह साई में संबंधित अधिकारियों को किसी फैसले तक पहुंचने में तकनीकी मदद उपलब्ध कराएं न कि वह सीधे पे्रस तक पहुंच जाएं।

साई ने कहा कि तथ्यों को गलत तरीके से पेश कर डॉ.चन्द्रन ने न केवल देश में भ्रामकता फैलाई बल्कि उस संगठन की प्रतिष्ठा को भी गिराया जहां वह सलाहकार के रूप में कार्यरत थे। यह पूरी तरह अनुशासनहीनता का मामला है। साई उप निदेशक ने अपने पत्र में कहा कि पिछले कुछ दिनों में डॉ.चन्द्रन के गैर जिम्मेदाराना रवैये को देखते हुए सक्षम अधिकारियों ने उन्हें तत्काल प्रभाव से सेवा से हटाने का फैसला किया है। इससे पहले बाकि्संग इंडिया ने एक बयान में स्पष्ट किया कि टेस्ट के लिए महिला मुक्केबाजों ने खुद आग्रह किया था।
बाकि्संग इंडिया ने कहा था कि आर्ईबा की शर्तोü में यह शामिल था कि जेजू में होने वाली विश्व चैम्पियनशिप में भाग लेने वाली मुक्केबाजों का प्रेगनेंसी टेस्ट होना चाहिए। बाकि्संग इंडिया ने कहा था कि भारतीय टीम की मुक्केबाजों ने टीम कोचों और मुख्य कोच के जरिये लिखित में हमसे आग्रह किया कि साई या किसी साई डाक्टर से ऎसा टेस्ट कराने में उनकी मदद की जाए और इस प्रक्रिया के तहत हमने ऎसा किया। बाकि्संग इंडिया ने अपने बयान के साथ आईबा का अपने सदस्य देशों को शर्तो के साथ भेजा गया निमंत्रण पत्र और महिला मुक्केबाजों द्वारा लिखा पत्र भी संलग्न किया था।