16 दिवसीय राम नाम परिक्रमा महोत्सव का 31 दिसम्बर से आगाज

अजमेर। धार्मिक नगरी अजमेर में 16 दिन तक भगवान श्रीराम का नाम गुंजायमान होगा। 31 दिसंबर से 15 जनवरी तक श्रीराम नाम महामंत्र परिक्रमा महोत्सव में राजस्थान सहित देशभर से राम नाम साधक भाग लेंगे। आजाद पार्क में परिक्रमा स्थल को अयोध्या नगरी जैसा भव्य का रूप दिया जा रहा है। इसी अयोध्या नगरी भगवान श्रीराम के 54 अरब हस्तलिखित महामंत्रों की महापरिक्रमा होगी।

श्रीराम नाम महामंत्र परिक्रमा समारोह समिति के तत्वावधान और श्री मानव मंगल सेवा न्यास व श्रीराम नाम-धन संग्रह बैंक के सहयोग से विश्व में सर्वाधिक विधिवत संकलित हस्तलिखित श्रीराम नामों की परिक्रमा प्रतिदिन सूर्योदय 6ः15 बजे से रात्रि 8ः15 बजे तक कर सकेंगे।

दोपहर 2ः30 बजे से विभिन्न मण्डलियों द्वारा सुंदरकाण्ड पाठ, शाम 5ः30 बजे संत महात्माओं के प्रवचन होंगे। इस दौरान श्रीराम के साधकों, समाजसेवियों, पत्रकारों सहित अन्य का सम्मान किया जाएगा। प्रतिदिन शाम 7 बजे महाआरती होगी व शाम 7ः30 बजे से विभिन्न धार्मिक और सामाजिक संस्थाओं द्वारा प्रभु भक्ति की प्रस्तुतियां दी जाएंगी। आज रसोई बैक्वंट हॉल स्वामी कॉम्पलेक्स में प्रेसवार्ता को सम्बोधित करते हुए यह जानकारी संयोजक सुनील दत्त जैन ने दी। प्रेसवार्ता में सहसंयोजक कंवल प्रकाश किशनानी, संत्यनारायण भंसाली, डॉ. विष्णु चौधरी, श्रीराम नाम बैंक के संस्थापक पण्डित बालकृष्ण पुरोहित, विजय मौर्य और विनीत लोहिया उपस्थित रहे।

विशेष आकर्षण का केन्द्र बनेगी अयोध्या नगरी

श्रीराम नाम महापरिक्रमा के लिए आजाद पार्क में बनाई जा रही अयोध्या नगरी शहरवासियों के लिए विशेष आकर्षण का केन्द्र होगी। विशाल पाण्डाल को अयोध्या नगरी का रूप दिया जा रहा है। जिसमें ध्वनि और प्रकाश की आधुनिक व्यवस्था होगी। पाण्डाल में प्रवेश करते ही श्रृद्धालुओं को भगवान श्रीराम की जन्मस्थली अयोध्या के सदृश्य आभास होगा।

अयोध्या नगरी में जगह-जगह भगवान श्रीराम और राम भक्त हनुमान के अलावा रामायण काल के कई देवी-देवताओं के विशेष चित्र होंगे। राम नाम की परिक्रमा के लिए आने वाले श्रृद्धालुओं का संगीतमय राम पाठ और पुष्पों के साथ स्वागत होगा। परिक्रमा महोत्सव के लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

संतों के प्रवचन और श्रीराम कीर्तन

महापरिक्रमा के दौरान प्रत्येक दिन शाम को अलग अलग संतों के प्रवचन और राम नाम की महिमा का व्याख्यान किया जाएगा। संत प्रवचन के बाद सुन्दरकाण्ड पाठ और राम कीर्तन होगा। इसके लिए परिक्रमा परिसर में राम दरबार सजाया जाएगा। नियमित रूप से विभिन्न धार्मिक संस्थानों के बडे संत कार्यक्रम में आशीर्वाद प्रदान करेंगे। महापरिक्रमा के दौरान समाज के विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली धार्मिक व सामाजिक संस्थाओं तथा पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले पत्रकारों का भी सम्मान किया जाएगा।

परिक्रमा महोत्सव के दौरान राम नाम धन संग्रह करने में कीर्तिमान स्थापित करने वाले श्रृद्धालुओं का भी सम्मान किया जाएगा। कार्यक्रम में प्रतिदिन होने वाली महाआरती में शहर के विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी, उद्योगपति, समाजसेवी और जनप्रतिनिधि होंगे। प्रभात फेरी परिवार प्रतिदिन प्रभात फेरी निकाली जाएगी। इसके बाद संन्यास आश्रम की ओर से दीप प्रज्जवलन और पूजन के साथ परिक्रमा शुरू होगी।

परिक्रमा स्थल पर मिलेंगी निशुल्क रामनाम पुस्तिकाएं

सूर्योदय से सूर्यास्त तक परिक्रमा स्थल पर ही राम नाम महामंत्र की 11 आसनों पर साधना एवं लेखन की विशेष व्यवस्था की गई है। जो भक्तगण रामनाम लेखन में रुचि रखते हैं उन्हें परिक्रमा स्थल पर ही रिक्त पुस्तिकाएं मुहैया कराई जाएंगी। इसके लिए विशेष काउंटर लगाया जाएगा। पूर्णरूप से भरी पुस्तिओं को भी जमा करने की व्यवस्था रहेगी। इस लेखन के रजिस्ट्रेशन के लिए बालकिशन पुरोहित, रामसिंह चौहान, लक्ष्मण शर्मा, विजय शर्मा को व्यवस्था प्रमुख बनाया गया है। कार्यक्रम स्थल पर जो साधक महामंत्र लेखन करना चाहे उपरोक्त व्यवस्थापकों से सम्पर्क कर सकते हैं।

परिक्रमा स्थल पर श्रद्धालुओं के लिए विशेष व्यवस्था

परिक्रमा स्थल पर आने वाले भक्तगणों, माताओं, बहनों और बच्चों के लिए पेयजल, चिकित्सा व बैठने आदि की सुविधा रहेगी। देश के विभिन्न शहरों से आने वाले श्रद्धालुओं को पंजीकरण कराना होगा। कृष्ण गोपाल आयुर्वेदिक भवन कालेड़ा द्वारा 9 से 15 जनवरी तक निःशुल्क आयुर्वेदिक मेडिकल कैम्प और निःशुल्क दवा वितरण की जाएगी।

30 को भूमि पूजन और गौ पूजा

श्रीराम नाम की महापरिक्रमा के शुभारम्भ से पहले शनिवार 30 दिसम्बर को सुबह 9ः30 बजे भूमि पूजन और गौ पूजन सहित विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इस मौके पर समाजसेवी, धर्मप्रेमी व रामभक्त मौजूद रहेंगे।

31 दिसम्बर को महापरिक्रमा का शुभारम्भ

रविवार 31 दिसम्बर सुबह 10 बजे आजाद पार्क (अयोध्या नगरी) में होने वाले श्रीराम नाम महापरिक्रमा महोत्सव के उद्घाटन समारोह के मुख्य वक्ता परमार्थ आश्रम हरिद्वार के अधिष्ठाता स्वामी चिन्मयानन्द महाराज होंगे। समारोह की अध्यक्षता हरि सेवाधाम भीलवाडा के महामंडलेश्वर हंसराम उदासीन करेंगे। रेवसापीठ के पीठाधीश स्वामी राघवाचार्य महाराज, राजगढ़ मसाणिया भैरवधाम के उपासक चम्पालाल महाराज, नृसिंहद्वारा आश्रम आसींद के 108 महंत श्री केशवदास महाराज, चित्रकूट धाम पुष्कर के अधिष्ठाता पाठकजी महाराज, हनुमान धाम के संत कृष्णानन्द महाराज, नृसिंह मंदिर महंत श्यामसुन्दर देवाचार्य महाराज, श्री शांतानन्द उदासीन आश्रम पुष्कर के महंत हनुमानराम महाराज, मनोहर उदासीन आश्रम महंत स्वरूपदास महाराज आदि संतों का सान्निध्य प्राप्त होगा।

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि पंचायती एवं शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी, महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री अनिता भदेल, संसदीय सचिव सुरेश सिंह रावत, राज्यमंत्री एवं अजमेर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष शिवशंकर हेड़ा, महापौर धर्मेन्द्र गहलोत, जिला प्रमुख सुश्री वन्दना नोगिया, उपमहापौर सम्पत सांखला होंगे। कार्यक्रम के यजमान राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिल भारतीय खण्डेलवाल महासभा के कालीचरणदास खण्डेलवाल रहेंगे।

रविवार 31 दिसम्बर को अन्य कार्यक्रम

श्रीराम नाम परिक्रमा शुभारम्भ के बाद मध्यान्ह 2ः30 बजे केशव माधव संकीर्तन मंडल के शिवरतन वैष्णव व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे बड़ा रामद्वारा जोधपुर के स्वामी हरीराम महाराज अपने प्रवचन से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। इसके बाद समाज में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान किया जाएगा।

इसके बाद महाआरती होगी तथा शाम 7ः30 बजे कुलदीप चौहान व साथियों द्वारा भगवान राम को समर्पित नृत्य नाटिका ‘रंगीलो राजस्थान’ की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में शंकर सिंह रावत, भंवरलाल यादव, अजय चौधरी और हरीश पेन वाला यजमान रहेंगे।

परिक्रमा महोत्सव संचालन समिति

परिक्रमा महोत्सव के विधिवत संचालन के लिए समिति बनाई गई है। इस समिति के संयोजक सुनील दत्त जैन, सहसंयोजक कंवल प्रकाश किशनानी, उमेश गर्ग, सत्यनारायण भंसाली, विष्णु चौधरी महेन्द्र जैन मित्तल को बनाए गए हैं।

स्वागत समिति में धर्मेन्द्र गहलोत, शिवशंकर हेडा, सुश्री वन्दना नोगिया, सम्पत सांखला, कालीचरण खण्डेलवाल, रमेशचन्द अग्रवाल, ओमप्रकाश मंगल, आनन्द प्रकाश अरोड़ा, धर्मेश जैन, विष्णु प्रकाश गर्ग, गोपाल गोयल, जेके शर्मा, किशनचन्द बंसल, शिवशंकर फतेहपुरिया, रामरतन छापरवाल, विमल गर्ग, सुरेश शर्मा, हरी चन्दनानी, भारती श्रीवास्तव, लेखराज सिंह राठौड़, पूनम मारोठिया, श्यामसुन्दर बंसल, रमेश तापडिया, बाबूसिंह पंवार, मानव मंगल सेवा न्यास मणिलाल गर्ग (अध्यक्ष), पूरण सिंह चौहान, एसएन पाण्डे, बालकृष्ण पुरोहित (संस्थापक), निहालचन्द पहाडि़या, रमेशचन्द शर्मा, रामसिंह चौहान, शशि प्रकाश इंदौरिया शामिल हैं।

प्रशासनिक समिति का जिम्मा राजेन्द्र गांधी, धर्मेन्द्र शर्मा, ज्ञान सारस्वत, कुन्दन वैष्णव, सोमरत्न आर्य, धर्मपाल जाटव को सौंपा गया है।

वित्त समिति में नितिन शर्मा, नवीन सोगानी, अशोक टांक, अनिल गर्ग, अखिलेश गोयल व्यवस्था देखेंगे।

व्यवस्था समिति में शिवरतन वैष्णव, ललित शर्मा, अमरसिंह, विजय मौर्य, मोहन तुल्सियानी, नारायण गुर्जर, रमेश मित्तल, अभिलाषा यादव, लोकमल गोयल, विनीता जैमन, अलका गौड, महेश कुमार मूलचन्दानी, विनीत लोहिया, विजयलक्ष्मी विजय, मोनू आदेश, विष्णु गोपाल मोदानी, शंकरसिंह राठौड़, नरेन्द्र जैन, अशोक राठी, प्रेम केवलरमानी, हेमन्त तायल, देवनाथ योगी, मोहन खण्डेलवाल, महेन्द्र तीर्थाणी, सुरेन्द्र बंसल, मनोज कुमार सोलंकी, शंकर सिंह राठौड शामिल है।

महोत्सव में सहयोगी संस्थाएं

परिक्रमा महोत्सव में तुलसी सेवा संस्थान, विश्व हिंदू परिषद, केशव माधव परमार्थ मंडल, राधा कृष्ण सखा परिवार, सर्वेश्वर संकीर्तन मंडल, श्री श्याम प्रेम मंडल, सिन्धी समाज महासमिति, तुलसी जयंती समारोह समिति, श्री श्याम सेवक कल्याण संघ, बजरंग दल, दुर्गा वाहिनी, झरनेश्वर सेवा समिति, सांई बाबा मंदिर समिति, श्री समस्त मानस मंडल, अजमेर लायंस, आदेश ग्रुप, श्री राम युवा सेवा समिति, श्री आजाद युवा सेना, मां भारती ग्रुप राजस्थान के पदाधिकारियों और सदस्यों का सहयोग रहेगा।

लिखित जप राम नाम

श्रीराम नाम धन संग्रह बैंक अजमेर के संस्थापक पंडित बालकृष्ण पुरोहित द्वारा विरचित, संशोधित, संग्रहित यह दो अक्षरों वाला ‘राम नाम’ परम मंत्र हैं। यह सब मन्त्रों में श्रेष्ठ हैं, असे सब मन्त्रों का ही नहीं बल्कि वेदों का भी प्राण कहा गया हैं। रामनाम का नियमित रुप से लिखित जप करने वाले भक्तजन, एक क्षण में ही अपने अज्ञानकृत बन्धनों को काटकर करोड़ों सूर्यों के समान प्रकाशमान लोक (मोक्ष) परम पद को प्राप्त कर लेते हैं। भक्तिभाव से रामनामाकंन करना बुद्धि को अत्यन्त शुद्ध करने वाली साधना हैं। आत्मज्ञान से शुद्ध आत्मतत्त्व (आत्माराम) का अनुभव होता है और उससे दृढ़ बोध हो जाने से मनुष्य परमपद प्राप्त करता हैं।

सदा भक्तिभाव से राम-राम के लिखित जप करो। नियमित रुप से सदा संकल्प राम नामाकंन करते रहने वाले भक्त का लौकिक गतिविधियों से होने वाला पतन नहीं हो सकता। यहां राम नामाकंन की तीन विशेषताएं बताई गईं हैं। राम का नाम एक सिद्ध महामन्त्र हैं। यह नाम कपट-पिशाचिनी का घण्टा-नाद है। राम यह नाम एक शान्तिवाक्य है। राम नाम का लिखित जप तारक मंत्र सहज, सरल स्वयं सिद्ध मंत्र महा वाक्य महामंत्र भी है।

परिक्रमा का महत्व

परिक्रमा के संदर्भ में सर्व विधित है कि श्रीगौरी शंकर गणेशजी महाराज परिक्रमा कर प्रथम पूज्य हो गए। जो परम पावन मंगलकारी अंकित राम नाम संग्रह मंदिर के दर्शन, परिक्रमा करता हैं, अनन्त अनन्त ब्रह्मांणडों में समस्त पावन तीर्थों की परिक्रमा के समान पुण्य प्राप्त करता है। ऐसी पावन परिक्रमा करने वाले भक्त सदा ही समस्त बन्धनों से छूट जाते हैं। ऐसी ही भावना से प्रतिदिन 108 परिक्रमा पूर्ण करते हुए जो नव दिवसीय यज्ञ पूर्ण करता है वह पूर्व संकलित एवं वर्तमानकृत घोर पापों से तत्काल मुक्त हो जाता हैं। जो भक्त परिक्रमा करने में असमर्थ हों वे भी यदि इन महामंत्रों के दूर से दर्शन कर तथा दण्डवत प्रणाम कर लें तो समस्त देवताओं के पूजन का फल पाता हैं।

30 हजार से अधिक भक्त कर रहे रामांकन

श्री राम नाम धन संग्रह बैंक अजमेर सभी सदस्यों से 84 लाख बार राम नामाकंन का संकल्प कराता है और उनका विधान से संधारण भी करता है। संग्रहित राम नामाकंन की प्रदक्षिणा सहित दर्शन सभी भक्तों को सुलभ कराने के लिए विभिन्न शहरों में समय समय पर परिक्रमा का आयोजन कराता हैं। श्री राम नाम धन संग्रह बैंक, सदस्य प्रमाणित नियमों और संतों व शास्त्रों द्वारा बताए गए मार्ग का अनुसरण करते हैं। संकल्पित सदस्यों की संख्या 32 हजार होने जा रही है। भारत ही नहीं विश्व में राम नामांकन के अनूठे अनुष्ठान के चलते अजमेर स्थित यह राम नाम बैंक पहचान बनाने जा रहा है।

सोमवार 1 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे श्री पवनपुत्र मानस मण्डल के लखन सिंह भाटी व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ होगा। शाम 5ः30 बजे संत कृष्णानन्द महाराज प्रवचनों से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। इस दौरान समाज में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों सहित अन्य का सम्मान करेंगे। इसके पश्चात महाआरती होगी। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे विविधा-अजमेर कत्थक कला केन्द्र की दृष्टि रॉय व साथियों द्वारा भगवान राम को समर्पित नृत्य नाटिका की प्रस्तुति दी जाएगी। इस अवसर पर कार्यक्रम में राजेश सोनी, गोकुल धाम एसीई अमित भंसाली और नितिन शर्मा यजमान रहेंगे।

मंगलवार 2 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे पुष्पा जयसवाल व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे गनाहेड़ा पुष्कर के दिव्य मुरारी बापू प्रवचन करेंगे। इस दौरान उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि सम्मान किया जाएगा तथा महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित आप और हम व नाट्यवृन्द संस्था द्वारा नाट्य मंचन होगा साथ ही इस्कॉन मंदिर की ओर से संकीर्तन की प्रस्तुति दी जाएगी। इस अवसर पर कार्यक्रम में रमेश मोटवानी, सुमित खेतावत, आनन्द प्रकाश अरोड़ा, गोपाल शशि गुप्ता और हनुमान श्रेया यजमान रहेंगे।

बुधवार 3 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे राधे सर्वेश्वर मण्डल के पुष्पा, मुकेश व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ होगा। शाम 5ः30 बजे राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के क्षेत्रीय कार्यवाह हनुमान सिंह राठौड़ उद्बोधन से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। उद्बोधन के बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित वृंदगान में डॉ. नासिर मदनी व उनके शिष्य द्वारा प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में महेन्द्र जैन मित्तल, अशोक कुमार टांक, धर्मेश जैन और जगदीश भाटिया यजमान रहेंगे।

गुरूवार 4 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे अमृतवाणी मानस मण्डल की लता तायल व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की संकीर्तन की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5 बजे हित रस धारा हिंसार के हित अम्बरीश महाराज के प्रवचन होंगे। महाआरती के पश्चात शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित भजनामृत गंगा में गोविन्द माहेश्वरी, गिरीराज मित्र मण्डल परिवार (एलन केरियर इंस्टीट्युट) कोटा द्वारा सुंदर भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी।

शुक्रवार 5 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे श्री कृपालु मानस मण्डल के सम्भाजी व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ होगा। शाम 5ः30 बजे राजगढ़ भैरवधाम के मुख्य उपासक चम्पालाल महाराज प्रवचनों से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। इसके बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान होगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित स्वराजंलि में आरोहम – गंधर्व महाविद्यालय के आनन्द वैद्य प्रस्तुति देंगे। इस कार्यक्रम में पूरनचन्द अनिल राजकुमार गर्ग, अशोक मुकेश शिवराज विजय, तारा देवी साहू और मनोज नानकानी यजमान रहेंगे।

शनिवार 6 जनवरी के प्रस्तवित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे गणेश मानस मण्डल के कैलाश शर्मा व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे चित्रकुट धाम पुष्कर के पाठकजी महाराज के प्रवचन होंगे। इसके बाद समाजसेवियों सहित अन्य का सम्मान किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित ‘एक शाम राम के नाम’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में सीताराम बंसल, कृष्ण अवतार बंसाली, सुरेन्द्र कुमार, अजय वर्मा और गोविन्द खटवानी यजमान रहेंगे।

रविवार 7 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

सुबह 9 बजे गायत्री परिवार की ओर से गायत्री यज्ञ का आयोजन किया जाएगा। मध्यान्ह 2ः30 बजे श्री श्याम शरणागत मण्डल के डॉ. स्वतंत्र शर्मा व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे विश्व हिन्दू परिषद के केन्द्रीय मंत्री उमाशंकर का उद्बोधन होगा। उद्बोधन समाज में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि सम्मान ​किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे पं. रामलाल माथुर संगीत महाविद्यालय और कला अंकुर संस्थान की ओर से भगवान राम को समर्पित ‘सुर सरिता’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में डॉ. कमला गोखरू, अमित, कैलाशचन्द खण्डेलवाल, दीपा नारीभाई टिक्यानी और गोपाल शर्मा चोयल यजमान रहेंगे।

सोमवार 8 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे श्रीराम मानस मण्डल के देवेन्द्र कुमार झा व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे संन्यास आश्रम के अधिष्ठाता स्वामी शिवज्योतिषानन्द महाराज प्रवचनों से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। इसके बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि सम्मान होगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। कवि सम्मेलन में भीलवाड़ा से वीर रस के कवि योगेन्द्र शर्मा, कवि डॉ. वृजेश माथुर, प्रदीप गुप्ता, अशोक पंसारी, अमिता टंडन, पूजा गौड़ और मुस्कान कोटवानी अपनी कविताओं से माहौल को भक्तिमय बनाएंगे। इस अवसर पर कार्यक्रम में एडवोकेट बबिता टांक, कन्हैयालाल, हरीश शर्मा और किशन हरवानी यजमान रहेंगे।

मंगलवार 9 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे जय अम्बे महिला मण्डल के अनिता नरचल व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे रामनिवास धाम भीलवाड़ा के जगदगुरू श्री रामदयाल महाराज के प्रवचन होंगे। इसके बाद समाजसेवियों सहित अन्य का सम्मान किया जाएगा।महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे भगवान राम को समर्पित श्री सर्वेश्वर संकीर्तन मण्डल द्वारा ‘एक शाम किशोरी जी के नाम’ में अशोक तोषनीवाल अपनी प्रस्तुति देंगे। इस कार्यक्रम में शंकरलाल बंसल, शिवशंकर फतेहपुरिया, रमाकान्त बाल्दी और राधेश्याम गर्ग यजमान रहेंगे।

बुधवार 10 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे तुलसी जयंती समारोह समिति की उषा गुप्ता व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ होगा। शाम 5ः30 बजे वैशाली नगर स्थित प्रेमप्रकाश आश्रम के ओमप्रकाश शास्त्री प्रवचनों से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। इसके बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान होगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे तानसेन संगीत महाविद्यालय की ओर से भगवान राम को समर्पित ‘इन्द्रधनुष’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में विजय गुप्ता, सरदारमल जैन, जितेन्द्र खण्डेलवाल, राधाकिशन आहूजा और रमेश चेलानी यजमान रहेंगे।

गुरूवार 11 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे श्रीकांत जांगिड़ व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की संगीतमय प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे ‘श्री राम जय राम जय जय राम’ का सामूहिक पाठ होगा। इसके बाद समाजसेवीयों सहित अन्य का सम्मान किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे किशनगढ़ की फ्यूजन एकेडमी की ओर से भगवान राम को समर्पित ‘नवांकुर’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में गिरधारी मंगल, कैलाश डीडवानिया, चेतनराज सर्राफ और अनिष मोयल यजमान रहेंगे।

शुक्रवार 12 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे समस्त मानस मण्डल के आचार्य संतोष नाथ व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे ‘श्री राम जय राम जय जय राम’ की प्रस्तुति दी जाएगी। इसके बाद समाज में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों सहित अन्य का सम्मान किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे कत्थक कला केन्द्र निदेशक नृत्यांगन स्मिता भार्गव भगवान राम को समर्पित ‘नृत्याजंलि’ कार्यक्रम की प्रस्तुति देंगी। इस अवसर पर कार्यक्रम में प्रवीण कुमार जैन, गोपाल गोयल कांच वाले, पवन फतेहपुरिया और तेजेश देवेश्वर प्रसाद गुप्ता यजमान रहेंगे।

शनिवार 13 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे श्रीराम राज्य मण्डल व साथियों द्वारा सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे श्री शांतानन्द उदासीन आश्रम पुष्कर के महंत हनुमानराम उदासीन महाराज प्रवचनों से श्रृद्धालुओं को निहाल करेंगे। इसके बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान किया जाएगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे सप्तक परिवार द्वारा भगवान राम को समर्पित ‘वन्देमातरम्’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में ओम प्रकाश मंगल, किशनचन्द बंसल, विष्णु प्रकाश गर्ग और गौरांग किशनानी यजमान रहेंगे।

रविवार 14 जनवरी के प्रस्तावित कार्यक्रम

मध्यान्ह 2ः30 बजे रामानुज संकीर्तन मण्डल के लक्ष्मण पण्डित व साथियों की ओर से सुन्दरकाण्ड पाठ की प्रस्तुति दी जाएगी। शाम 5ः30 बजे उदयपुर के पुष्करदास महाराज प्रवचन करेंगे। इसके बाद उत्कृष्ठ कार्य करने वाले समाजसेवियों आदि का सम्मान होगा। महाआरती के बाद शाम 7ः30 बजे संस्कृति द स्कूल और निनाद संगीत अकादमी द्वारा भगवान राम को समर्पित ‘उद्भव’ कार्यक्रम की प्रस्तुति दी जाएगी। इस कार्यक्रम में अशोक पंसारी, श्याम बंसल, गोकुल अग्रवाल, अनिल गर्ग और सुरेश चारभुजा यजमान रहेंगे।

परिक्रमा में इनका भी मिलेगा सान्निध्य

54 अरब हस्त लिखित रामनाम महामंत्रों की महापरिक्रमा के दौरान सलेमाबाद निम्बार्कपीठ श्रीश्री निम्बार्क पीठाधीश्वर जगदगुरू श्री श्यामशरण देवाचार्य महाराज, पाली स्थित जाडन आश्रम शिक्षा एवं शोध संस्थान ओम श्री अलखपुर जी सिद्धपीठ परम्परा के पीठाधीश्वर विश्वगुरू स्वामी महेश्वरानन्दपुरी महाराज, रेवसापीठ के पीठाधीश स्वामी राघवाचार्य महाराज और जोधपुर के गोवत्स राधाकिशन महाराज का श्रृद्धालुओं को आशीर्वाद और सान्निध्य प्राप्त होगा।

15 जनवरी को होगा परिक्रमा विश्राम

54 अरब हस्तलिखित रामनाम महामंत्रों की महापरिक्रमा का समापन सोमवार 15 जनवरी को पूर्णाहूति के साथ होगा। कार्यक्रम में मध्यान्ह 3 बजे से शाम 6 बजे तक अयोध्या नगरी (आजाद पार्क) में मुख्य वक्ता बद्रीकाश्रम पीठ के जगदगुरू शंकराचार्य श्री स्वरूपानन्द महाराज के कृपा पात्र शिष्य स्वामी प्रज्ञानन्द महाराज रहेंगे। वे परिक्रमा में पधारे सभी श्रृद्धालुओं को प्रवचन करेंगे। इस अवसर पर राष्ट्र की सुरक्षा में तैनात सजग प्रहरियों के नाम 45 मिनट तक महामंत्र श्री राम जय जय राम का अखण्ड सामूहिक जाप किया जाएगा। समापन समारोह और पूर्णाहूति के यजमान रमेश चन्द्र अग्रवाल, अखिलेश गोयल और कुणाल जैन रहेंगे।