रंगांजलि में इस बार ‘अंदर आना मना है’

सबगुरु न्यूज उदयपुर। उदयपुर शहर के प्रख्यात रंगकर्मी, अभिनेता, निर्देशक, एवं बांसुरी वादक हेमंत पंड्या ‘दादू’ की स्मृति में नादब्रह्म की ओर से हर वर्ष होने वाले नाट्य समारोह ‘रंगांजलि’ में इस वर्ष नाटक ‘अंदर आना मना है’ की प्रस्तुति होगी। मंचन 10 सितम्बर को शिल्पग्राम के दर्पण सभागार में होगा।

डॉ.प्रभा दीक्षित द्वारा लिखित नाटक ‘अंदर आना मना है’ का निर्देशन किया है शहर के रंग-निर्देशक शिवराज सोनवाल ने। उल्लेखनीय है कि नादब्रह्म द्वारा हर वर्ष आयोजित दादू को समर्पित यह दसवीं रंगांजलि है।

पिछले एक दशक में रंगांजलि के अंतर्गत आयोजित नाट्य समारोह में लगभग दस नाटकों का प्रदर्शन किया जा चुका है, जिनमें प्रमुख नाटक रहे हैं स्वयं ‘दादू’ द्वारा लिखित एवं निर्देशित ‘मन मरीचिका’ एवं ‘शब्दबीज’, ‘मुगलों ने सल्तनत बख्श दी’, ‘रोटी का जाल’, ‘हवालात’, ‘सावधान! हम आत्महत्या करते हैं’, ‘मां मुझे टैगोर बना दे’, ‘कोर्ट मार्शल’, संक्रमण, ‘आखिर इसर्में की दवा क्या है, सबसे सस्ता गोश्त’ आदि प्रमुख हैं।